असल में 30 करोड़ भारतीय हो चुके हैं कोविड-19 का शिकार, ICMR के सीरोसर्वे में खुलासा

Spread the love

वैज्ञानिकों और शोधकर्तां ने अनुमान लगाया था कि जब एक क्षेत्र की 60-70 फीसदी आबादी वायरस के संपर्क में आकर ठीक होगी, तो महामारी तेजी से कम होने लगेगी. (सांकेतिक फोटो)

Covid-19 Update: सर्वे से जुड़े एक अधिकारी ने संक्रमण को लेकर कहा ‘कई शहरों में आंकड़े कई ज्यादा हैं. यह बात एपिडेमियोलॉजिकल थ्यौरी को मजबूत करती है कि देश के कुछ शहर हर्ड इम्युनिटी की तरफ बढ़ रहे हैं क्योंकि रोज मिलने वाले मामलों की संख्या कम हो रही है.’

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    February 1, 2021, 9:03 AM IST

नई दिल्ली. इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के हाल ही में हुए सीरोसर्वे (Serosurvey) में पता चला है कि देश की करीब 25 फीसदी जनता कोरोना वायरस (Corona Virus) का शिकार हो चुकी है. 4 में से एक भारतीय में पहले कोविड-19 (Covid-19) संक्रमण के सबूत मिले हैं. आईसीएमआर ने हाल ही में तीसरा राष्ट्रीय सीरो सर्वे पूरा किया है. इसकी शुरुआत बीते साल दिसंबर में हो गई थी. इस टेस्टिंग का मुख्य उद्देश्य एंटीबॉडीज (Antibodies) के बारे में जानना था.

फिलहाल आईसीएमआर के इस सर्वे की जानकारी रिलीज नहीं की गई है. मामले से जुड़े एक सूत्र ने द न्यू इंडियन एक्सप्रेस को जानकारी दी है कि सर्वे के अनुसार, देश में असल कोविड-19 संक्रमण की संख्या 30 करोड़ है. वहीं, जारी आंकड़े बताते हैं कि देश में अब तक एक करोड़ 7 लाख के करीब मामले सामने आए हैं. उन्होंने जानकारी दी है कि कुछ शहर हर्ड इम्युनिटी की तरफ भी बढ़ रहे हैं.

सर्वे से जुड़े एक अधिकारी ने संक्रमण को लेकर कहा ‘कई शहरों में आंकड़े कई ज्यादा हैं. यह बात एपिडेमियोलॉजिकल थ्यौरी को मजबूत करती है कि देश के कुछ शहर हर्ड इम्युनिटी की तरफ बढ़ रहे हैं क्योंकि रोज मिलने वाले मामलों की संख्या कम हो रही है.’ उन्होंने कहा ‘बीते दो सर्वे की तरह ग्रामीण इलाकों की तुलना में खास तौर से शहरी झुग्गियों और क्षेत्रों में सीरोपॉजिटिविटी काफी ज्यादा है.’

उन्होंने सर्वे के आंकड़े अगले कुछ दिनों में सार्वजनिक किए जाने की संभावना जताई है. दिसंबर और जनवरी में शुरू हुए तीसरे सीरो सर्वे का मकसद 22 राज्यों के 70 जिलों से 400 रेंडम तौर पर चुने हुए लोगों के रक्त से ब्लड सैंपल लेना था. इस सैंपल के जरिए SARS-CoV-2 के खिलाफ एंटीबॉडीज का पता लगाय जाना था. इस सर्वे में वही राज्य और जिले शामिल किए गए थे, जहां मई और अगस्त के दौरान पिछले दो सर्वे किए गए थे.

खास बात है कि सितंबर के बाद से ही देश में कोविड-19 आंकड़े लगातार कम हो रहे हैं. वैज्ञानिकों और शोधकर्तां ने अनुमान लगाया था कि जब एक क्षेत्र की 60-70 फीसदी आबादी वायरस के संपर्क में आकर ठीक होगी, तो महामारी तेजी से कम होने लगेगी. खास बात है कि एक समय में देश में प्रतिदन 80-90 हजार मामले तक भी सामने आ रहे थे.




Source link


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *