एनर्जी बिजनेस: 75,000 करोड़ रुपये के निवेश के साथ अडाणी को टक्कर देना चाहते हैं मुकेश अंबानी

Spread the love

मुंबई: रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) के अध्यक्ष मुकेश अंबानी ने ग्रीन एनर्जी कारोबार में 75,000 करोड़ रुपये के निवेश के साथ अडाणी समूह के अध्यक्ष गौतम अडाणी को टक्कर देने का इरादा जाहिर कर दिया है.

फिलहाल, गौतम अडाणी के नेतृत्व वाली अडाणी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड भारत की सबसे बड़ी रेन्यूबेल फर्म है जिसकी कुल रेन्यूबेल कैपेसिटी 24,294 मेगावाट है (अधिग्रहण और परियोजनाओं के तहत संपत्ति सहित जहां एजीईएल L1 बोलीदाता के रूप में उभरा है)

आरआईएल ने जामनगर में 5,000 एकड़ में धीरूभाई अंबानी ग्रीन एनर्जी गीगा कॉम्प्लेक्स विकसित करने का काम शुरू कर दिया है, जो दुनिया में इस तरह की सबसे बड़ी एकीकृत रेन्यूबेल एनर्जी मैन्युफैक्चरिंग फैसिलिटी में से एक है.

रिलायंस करेगी चार गीगा कारखाने स्थापित 
कंपनी की 44वीं एजीएम के दौरान आरआईएल के अध्यक्ष मुकेश अंबानी ने चार गीगा-कारखाने स्थापित करने की घोषणा की. इन चार कारखानों- एकीकृत सौर फोटोवोल्टिक मॉड्यूल फैक्ट्री, उन्नत ऊर्जा भंडारण बैटरी फैक्ट्री, इलेक्ट्रोलाइजर फैक्ट्री, और जामनगर में ईंधन सेल फैक्ट्री में 60,000 करोड़ रुपये के निवेश और अपस्ट्रीम, डाउनस्ट्रीम उद्योगों सहित वैल्यू चेन, साझेदारी और भविष्य की प्रौद्योगिकियों में 15,000 करोड़ रुपये के अतिरिक्त निवेश की भी घोषणा की है.

वहीं गौतम अडाणी ने अडाणी ग्रीन को 2025 तक दुनिया की सबसे बड़ी सौर ऊर्जा कंपनी और 2030 तक सबसे बड़ी रेन्यूबेल कंपनी बनने की परिकल्पना की है.

मुकेश अंबानी की योजना 2030 तक कम से कम 100GW सौर ऊर्जा स्थापित करने की है यह हमारे प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 2030 तक 450GW अक्षय ऊर्जा क्षमता प्राप्त करने के लक्ष्य के एक चौथाई से अधिक है. ऐसा करने में, आरआईएल की सौर क्षमता 2025 तक अडाणी ग्रीन की 25 GW तक पहुंचने की आकांक्षाओं से आगे निकल सकती है.

‘मुकेश अंबानी भारत के ऊर्जा परिदृश्य को बदलने के मिशन पर’
मुंबई के एक ऊर्जा विश्लेषक ने कहा, “रिलायंस जियो के साथ भारत के दूरसंचार क्षेत्र में हलचल लाने के बाद, मुकेश अंबानी भारत के ऊर्जा परिदृश्य को बदलने के मिशन पर हैं. आरआईएल का प्रयास हरित ऊर्जा है.”

आरआईएल इलेक्ट्रो-केमिकल प्रौद्योगिकियों का उपयोग करके उन्नत ऊर्जा भंडारण गीगा फैक्ट्री स्थापित करने की योजना बना रही है जिसका उपयोग कंपनी द्वारा बनाई जाने वाली ऊर्जा को स्टोर करने के लिए बड़े पैमाने पर ग्रिड बैटरी के रूप में किया जा सकता है.

कंपनी उच्चतम दक्षता और न्यूनतम पूंजी लागत के मॉड्यूलर इलेक्ट्रोलाइजर्स के निर्माण के लिए इलेक्ट्रोलाइजर गीगा फैक्ट्री की स्थापना करेगी. इनका उपयोग घरेलू उपयोग के साथ-साथ वैश्विक बिक्री के लिए ग्रीन हाइड्रोजन के कैप्टिव उत्पादन के लिए किया जा सकता है.

इसके अलावा, आरआईएल एक फ्यूल सेल गीगा फैक्ट्री भी स्थापित कर रही है, जो बिजली पैदा करने के लिए हवा से ऑक्सीजन और हाइड्रोजन का उपयोग करेगी. इस प्रक्रिया का एकमात्र उत्सर्जन गैर-प्रदूषणकारी जल वाष्प है.

ब्लूमबर्ग बिलियनेयर इंडेक्स के अनुसार मुकेश अंबानी 83.8 बिलियन डॉलर की संपत्ति के साथ सबसे अमीर एशियाई हैं, जबकि गौतम अडाणी66.3 डॉलर की संपत्ति के साथ तीसरे सबसे अमीर एशियाई हैं.

यह भी पढ़ें :

मुकेश अंबानी ने ‘2G मुक्त 5G युक्त’ देश की बात की, लॉन्च किया दुनिया का सबसे सस्ता स्मार्टफोन | जानें रिलायंस AGM की 10 बड़ी बातें

प्रधानमंत्री के साथ बैठक के बाद महबूबा मुफ्ती ने फिर की पाकिस्तान से बातचीत की वकालत, अनुच्छेद 370 पर कही ये बात

Source link


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *