कानपुर में रेत का अवैध खनन करने पर फर्म पर लगाया 2.39 करोड़ का जुर्माना

Spread the love

अवैध माइनिंग करने पर लगाया गया भारी जुर्माना. (सांकेतिक तस्वीर)

कानपुर की सुनौड़ा खदान में मेसर्स वैष्णवी इंटरप्राइजेज द्वारा अवैध खनन करने की पुष्टि हो गई है. प्रशासन ने इस फर्म के नागेंद्र सिंह के नाम नोटिस जारी कर 2 करोड़ 39 लाख 6 हजार 360 रुपये का जुर्माना लगाया है.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    February 5, 2021, 9:58 PM IST

कानपुर. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में अवैध खनन (illegal mining) करने को लेकर बड़ी कार्रवाई हुई है. कानपुर (Kanpur) में बिल्हौर के सुनौड़ा (Sunauda) में अवैध खनन की शिकायत पर जांच की गई. इस जांच में अवैध खनन करने की पुष्टि हो गई है. जांच में पाया गया कि 54219 घन मीटर साधारण बालू का अवैध खनन करके उसका परिवहन किया गया है. प्रशासन ने जांच में दोषी पाए जाने के बाद खनन करने वाली फर्म पर 2 करोड़ 39 लाख 6 हजार 360 रुपये का जुर्माना लगाया गया है. जुर्माने की यह रकम फर्म को 15 दिन के अंदर जमा करनी है. नोटिस में सिर्फ जुर्माना ही नहीं लगाया गया, बल्कि जुर्माना अदा नहीं करने तक खनन कार्य पर भी रोक लगा दी गई है.

बताया गया है कि महाबलीपुरम के रहने वाले मेसर्स वैष्णवी इंटरप्राइजेज को सुनौड़ा में खनन कार्य का पट्टा दिया गया था. इस दौरान इस फर्म पर अवैध खनन करने का आरोप लगा था. जांच में यह आरोप सही पाया गया. एडीएम वित्त राजस्व ने इस संबंध में महाबलीपुरम के रहने वाले मेसर्स वैष्णवी इंटरप्राइजेज के नागेंद्र सिंह के नाम नोटिस जारी कर दिया है. इस फर्म को सुनौड़ा में खनन के लिए 5 साल का पट्टा दिया गया था. 11 जनवरी को निदेशक ने यहां का निरीक्षण किया तो पता चला कि खनन पट्टे की बाउंड्री का सही चिह्नांकन नहीं किया गया है. इससे खनन की सही स्थिति का पता नहीं चल रहा था. इसकी जांच के लिए टीम का गठन किया गया. टीम ने जियो कोऑर्डिनेट्स के अनुसार जांच कर सीमा रेखा को चिह्नांकित किया. जांच के दौरान उनकी आख्या में रकबा 5.4219 हेक्टयेर क्षेत्रफल में होना पाया गया था. निदेशक के निर्देश पर गठित जांच टीम ने भी इसकी पुष्टि की है. अधिकारियों के अनुसार जांच में पाया गया कि 54219 घन मीटर साधारण बालू का अवैध खनन करके परिवहन किया गया. उसी आधार पर जुर्माना राशि जोडक़र नोटिस दिया गया है.




Source link


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *