कासगंज में बिकरू कांड दोहराने की कोशिश, सिपाही की हत्या, दरोगा को लहूलुहान कर जंगल में फेंका– News18 Hindi

Spread the love

अजेन्द्र शर्मा

कासगंज. उत्तर प्रदेश के कासगंज (Kasganj) में बिकरू कांड (Bikroo Kand) दोहराने की कोशिश की गई है. वारंटी को पकड़ने गयी पुलिस को पहले बंधक बनाया गया. फिर बदमाशों ने अशोक नामक दरोगा और देवेंद्र नामक सिपाही के साथ जमकर मारपीट की है. सिपाही की मौत (Dead) हो गई है तो वहीं दरोगा अशोक की हालत गंभीर बताई जा रही है. पुलिस टीम को बंधक बनाने की खबर मिलते ही महकमे में हड़कंप मच गया. फौरन पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंचे. लहूलुहान दरोगा अशोक और सिपाही देवेंद्र खेतों में गंभीर गंभीर हालत मिले. पुलिस का मानना है कि बदमाश विकास दुबे जैसे कांड को अंजाम देने की फिराक में थे. सिढ़पुरा थाना क्षेत्र के नगला धीमर गांव का ये पूरा मामला है.

कासगंज में सिपाही की हत्या के बाद गंभीर हालत में दरोगा को अलीगढ़ रेफर कर दिया गया है. सिपाही और दरोगा पर उस वक्त हमला किया गया था जब वह वारंट तामील कराने त्रिपुरा क्षेत्र के एक गांव में गए थे. दोनों को मारकर जंगल में फेंक दिया गया था. 4 घंटे से ज्यादा की तलाश के बाद पुलिस दोनों तक पहुंच पाई. इस मामले में शराब माफिया मोती का नाम सामने आ रहा है. पुलिस टीम पर खतरनाक हमला करने के आरोपियों की तलाश तेज हो गई है. पूरे गांव को पुलिस और पीएसी ने घेर रखा है. माना जा रहा है कि सिपाही और दरोगा पर हमला करने में माफिया मोती और उसके दर्जनों साथी शामिल थे. आगरा के एडीजी अजय आनंद ने बताया कि पुलिस की 6 टीमें गठित कर आरोपियों की तलाश की जा रही है. यह काफी गंभीर प्रकृति का अपराध है. किसी भी हालत में अपराधियों को बख्शा नहीं जाएगा. अपराधियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी.

मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कासगंज में सिढ़पुरा थाना क्षेत्र के नगला धीमर गांव में पुलिस सिपाही की मृत्यु की घटना पर संज्ञान लिया है. उन्होंने इस घटना के संबंध में दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई किए जाने के निर्देश दिए हैं. सीएम योगी ने कहा कि राज्य सरकार अपराध और अपराधियों के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति पर कार्य कर रही है. कानून व्यवस्था के सम्बन्ध में किसी भी प्रकार का समझौता न करते हुए सम्बन्धित दोषियों के खिलाफ अविलम्ब और सख्त कार्रवाई की जाए. मुख्यमंत्रीने इस घटना में घायल पुलिसकर्मी के समुचित उपचार के निर्देश दिए हैं.

ये भी पढ़ें: Nainital News: दुकानदार को कुचलकर मारने का आरोप, जेल में कैद पुलिसकर्मी ने की CBI जांच की मांग

इसके साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शहीद पुलिसकर्मी के परिवार के प्रति गहरी संवेदना जताते हुए 50 लाख की आर्थिक सहायता और आश्रित को सरकारी नौकरी देने के निर्देश भी दिए हैं.

Source link


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *