दिल्ली के बाद महाराष्ट्र ने केंद्र पर लगाए आरोप, स्वास्थ्य मंत्री बोले-ऑक्सीजन आवंटन में 50 मीट्रिक टन की कमी

Spread the love

वर्तमान में कई राज्यों में ऑक्सीजन की कमी देखी जा रही है.

Oxygen Supply in Maharashtra: महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री टोपे ने कहा कि यदि ऑक्सीजन की आपूर्ति बहाल नहीं की गई तो हम गंभीर कमी का सामना करेंगे. उन्होंने कहा कि हमें इस अवधि में केंद्र से अधिक ऑक्सीजन मिलनी आवश्यक है.

मुंबई. महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे (Rajesh Tope) ने कहा कि केंद्र ने महाराष्ट्र को कर्नाटक से तरल चिकित्सकीय ऑक्सीजन (Medical Oxygen) की आपूर्ति में 50 मीट्रिक टन की कमी कर दी है और इस कदम का कोविड​​-19 रोगियों के उपचार पर गंभीर प्रभाव पड़ेगा. टोपे ने कहा कि महाराष्ट्र को तरल चिकित्सकीय ऑक्सीजन की आपूर्ति में कमी का मुद्दा केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के समक्ष उठाया जाना जरूरी है. उन्होंने कहा कि देश में कोविड-19 के सर्वाधिक मरीज महाराष्ट्र में उपचाराधीन हैं. टोपे ने यहां संवाददाताओं से कहा कि केंद्र सरकार ने कर्नाटक से महाराष्ट्र को तरल चिकित्सकीय ऑक्सीजन के आवंटन में 50 टन की कमी कर दी. उन्होंने कहा, ‘‘इसका महाराष्ट्र में कोविड-19 रोगियों के चल रहे उपचार पर गंभीर प्रभाव पड़ेगा. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और संबंधित अन्य अधिकारियों के साथ इस मुद्दे को उठाना आवश्यक है.’’ वर्तमान में हो रहा है 1,750 टन ऑक्सीजन का इस्तेमाल उन्होंने कहा कि राज्य सरकार कोरोना वायरस के गंभीर रोगियों के उपचार में इस्तेमाल होने वाली जीवनरक्षक गैस का उत्पादन बढ़ाने के लिए प्रेशर स्विंग एड्सॉर्पशन (पीएसए) चिकित्सकीय ऑक्सीजन संयंत्र स्थापित कर रही है. उन्होंने कहा, ‘‘वर्तमान समय में महाराष्ट्र 1,750 टन (चिकित्सकीय) ऑक्सीजन का इस्तेमाल कर रहा है.’’ये भी पढ़ेंः- हवा में उड़ते ही एयर एंबुलेंस का पहिया गिरा, यूं बची 5 लोगों की जान…देखें VIDEO उन्होंने कहा कि राज्य के लिए आशा की एकमात्र किरण 28 पीएसए संयंत्रों की स्थापना है. उन्होंने कहा कि राज्य ने 150 पीएसए संयंत्रों के लिए आर्डर दिए हैं जो आने वाले दिनों में शुरू होंगे.

ऑक्सीजन आपूर्ति न होने पर हो सकते हैं गंभीर हालात टोपे ने कहा कि यदि ऑक्सीजन की आपूर्ति बहाल नहीं की गई तो हम गंभीर कमी का सामना करेंगे. उन्होंने कहा कि हमें इस अवधि में (जब तक कि पीएसए संयंत्र कार्य करना शुरू नहीं करते) केंद्र से अधिक ऑक्सीजन मिलनी आवश्यक है.





Source link


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *