नागरिक उड्डयन मंत्रालय की अब क्‍या होंगी प्राथमिकताएं, जानें?

Spread the love

नई दिल्‍ली. नागरिक उड्डयन मंत्रालय (Ministry of Civil Aviation) की कमान नए हाथों में आने के बाद मंत्रालय प्राथमिकताएं आम लोगों को अधिक सुविधाएं उपलब्‍ध कराना है. इसलिए उड़ान योजना (UDAN scheme) के तहत अधिक से अधिक छोटे शहरों को हवाई मार्ग को जोड़ना है. पूर्व में चिन्हित रूटों पर फ्लाइट चलाई जाएंगी. इसके अलावा पूर्व में तय 100 एयरपोर्ट को जल्‍द डेवपल (Airport Development) कर उन्‍हें  मॉडर्न बनाना है.  केन्‍द्रीय नागरिक उड्डयन राज्‍यमंत्री ने जनरल वीके सिंह ने न्‍यूज18 हिन्‍दी से बात  करते हुए यह जानकारी दी है.

जनरल वीके सिंह ने कहा कि उड़ान योजना का विस्‍तार किया जाएगा, छोटे -छोटे शहरों को हवाई मार्ग से जोड़ा जाएगा, जिससे आम आदमी अधिक से अधिक हवाई सफर कर सके. वहीं, एयरपोर्ट को डेवपल पर मॉडर्न बनाना भी प्राथमिकता होगी, जिससे लोगों को छोटे एयरपोर्ट में भी बड़े एयरपोर्ट जैसी सुविधा दी जा सकें. इसके लिए मंत्रालय ने तैयारी शुरू कर दी है. जल्‍द ही इससे संबंधित निर्णय भी लिए जाएंगे. पैसेंजरों को सुविधाजनक सफर कराने के लिए कई और कदम उठाए जाएंगे.

उड़ान योजना के तहत 766 हवाई रूट चिन्हित

नागरिक उड्डयन मंत्रालय के अनुसार उड़ान योजना के तहत 766 हवाई रूट चिन्हित हो चुके हैं. जिनसे छोटे शहरों को हवाई मार्ग से जोड़ा जा रहा है. उड़ान एक, दो और तीन के तहत अब तक 307 रूटों पर फ्लाइट शुरू की जा चुकी है. हालांकि 87 रूटों पर तकनीकी कारणों या पैसेंजर न मिलने से फ्लाइट बंद की जा चुकी हैं. उड़ान 4 के तहत 78 रूटों पर पिछले दिनों मंजूरी दी जा चुकी है. इस योजना के तहत सबसे अधिक उत्तर पूर्व के 22 शहरों को सस्ती हवाई सेवा से जोड़ा जा रहा है.

उड़ान योजना के फायदे के रूट

उड़ान योजना के तहत सबसे फायदे वाला रूट दिल्‍ली से दरभंगा है, इसके अलावा दरभंगा से मुंबई और बेंगलुरू रूट पर भी खूब पैसेंजर निकल रह हैं. सामान्‍य दिनों में इन रूट  पर 98 फीसदी की क्षमता के साथ फ्लाइट उड़ती हैं. इसके साथ ही 220 रूटों में 18 रूटों पर 90 फीसदी से अधिक और 145 रूटों पर 60 फीसदी से अधिक पैसेंजर सफर सामान्‍य दिनों में करते हैं.

Source link


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *