फ्रेक्‍चर के बावजूद सिडनी में बल्‍लेबाजी के लिए तैयार थे जडेजा, कहा- इंजेक्‍शन भी ले लिया था

Spread the love

रवींद्र जडेजा के बाएं अंगूठे में चोट लगी है.(साभार-पीटीआई)

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ड्रॉ हुए सिडनी टेस्ट की पहली पारी में बल्लेबाजी करते हुए रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja ) के अंगूठे में चोट लग गई थी, जिसके बाद वह छह हफ्ते के लिए क्रिकेट से बाहर हो गए.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    January 24, 2021, 5:24 AM IST

नई दिल्ली. भारत के स्टार ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) ने शनिवार को कहा कि अंगूठे में फ्रेक्चर के बावजूद वह सिडनी में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ड्रॉ हुए तीसरे टेस्ट के दौरान 10-15 ओवर बल्लेबाजी करने के लिए मानसिक रूप से तैयार थे और उन्होंने इसके लिए दर्दनिवारक इंजेक्शन भी ले लिया था. जडेजा को सिडनी टेस्ट की पहली पारी में बल्लेबाजी करते हुए अंगूठे में चोट लग गई थी, जिसके बाद वह छह हफ्ते के लिए क्रिकेट से बाहर हो गए. इससे वह पांच फरवरी से इंग्लैंड के खिलाफ शुरू हो रही चार टेस्ट मैचों की सीरीज में नहीं खेल पाएंगे.

उन्होंने ‘स्पोर्ट्स टुडे’ से कहा कि मैं तैयार था, पैड पहन लिए थे. इंजेक्शन भी ले लिया था. मैं सोच रहा था कि मैं कम से कम 10 से 15 ओवर तक बल्लेबाजी करूंगा और मानसिक रूप से योजना बना रहा था कि पारी कैसे खेलूंगा, कौन से शॉट खेलूंगा, क्योंकि फ्रेक्चर से दर्द के कारण मेरे लिए सभी तरह के शॉट खेलना संभव नहीं था. जडेजा ने कहा कि मैं भी हिसाब लगा रहा था कि तेज गेंदबाजों की गेंदों का सामना कैसे करूंगा, वे मुझे गेंद कहां पिच करेंगे.

मैच जीतने का हुआ अहसास

जडेजा ने कहा कि  मैं अपनी भूमिका की योजना बना रहा था कि मैं जब 10-15 ओवर बल्लेबाजी करूंगा तो ऐसा करूंगा, लेकिन जडेजा को बल्लेबाजी के लिए उतरने की जरूरत ही नहीं पड़ी, क्योंकि आर अश्विन और हनुमा विहारी ने पांचवें दिन 256 गेंद का डटकर सामना किया और यादगार ड्रॉ कराया.जडेजा ने कहा कि यहां तक कि मैंने टीम प्रबंधन से भी बात की थी कि मैं सिर्फ तभी बल्लेबाजी करूंगा, अगर भारत उस दहलीज पर पहुंच जाता है, जहां मैच जीता जा सकता है. पुजारा और ऋषभ पंत अच्छी बल्लेबाजी कर रहे थे, उन्होंने साझेदारी बनाई.हमें यह भी महसूस हुआ कि हम मैच जीत सकते थे.

यह भी पढ़ें : 

शुभमन गिल का बड़ा खुलासा- युवराज सिंह की वजह से ऑस्ट्रेलिया में अच्छा प्रदर्शन कर पाया

इंग्लैंड के पूर्व खिलाड़ी ने विराट कोहली को बताया तानाशाह, कहा- वर्ल्ड कप नहीं जीते तो कप्तानी छोड़नी पड़ेगी

उन्होंने कहा कि लेकिन दुर्भाग्य से, पंत आउट हो गए और इसके बाद हालात बदल गए. हमें इसके बाद ड्रॉ के खेलना पड़ा. जडेजा ने कहा कि अश्विन और विहारी ने जिस तरह से मैच को बचाने के लिए बल्लेबाजी की, उन्होंने बेहतरीन जज्बा दिखाया. जब टेस्ट क्रिकेट की बात आती है तो हमेशा रन बनाना अहम नहीं होता. ऐसे भी हालात होते हैं जब आपको मैच बचाना होता है. इतने सारे ओवर बल्लेबाजी करके जिस तरह से हमने मैच बचाया, यह टीम का शानदार प्रयास था.




Source link


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *