भीलवाड़ा में कोरोना को कंट्रोल कर टीना डाबी ने बटोरी थीं खूब सुर्खियां

Spread the love

भीलवाड़ा मॉडल का श्रेय टीना डाबी को भी दिया गया था. (फाइल फोटो)

टीना डाबी (Tina Dabi) का नाम भीलवाड़ा मॉडल (Bhilwara Model) के भी खूब चर्चा में आया था. अप्रैल महीने में राजस्थान के इस शहर में एकाएक कोरोना मामले बढ़े थे लेकिन प्रशासनिक फुर्ती की वजह से मामलों की संख्या बढ़ नहीं पाई.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    November 23, 2020, 7:59 PM IST

नई दिल्ली. आईएएस टॉपर रहीं टीना डाबी के तलाक (Tina Dabi Divorce) की अर्जी की खबर शुक्रवार को आई. 26 वर्षीय टीना डाबी ने अपने ही बैच के सेकंड टॉपर रहे अतहर आमिर (Athar Aamir) से 2018 में शादी की थी. अब दोनों ने जयपुर की कोर्ट में तलाक की अर्जी दी है. हालांकि इससे पहले भी दोनों के बीच रिश्तों में मनमुटाव की खबरें आई थीं. लेकिन इन सबके बीच टीना डाबी का नाम भीलवाड़ा मॉडल के भी खूब चर्चा में आया था. अप्रैल महीने में राजस्थान के इस शहर में एकाएक कोरोना मामले बढ़े थे लेकिन प्रशासनिक फुर्ती की वजह से मामलों की संख्या बढ़ नहीं पाई.

अप्रैल में देशभर में चर्चा आया था भीलवाड़ा
दरअसल अप्रैल में भीलवाड़ा राजस्थान में सबसे ज्यादा कोरोना रोगियों वाला जिला बन गया था. लेकिन जिस फुर्ती के साथ प्रशासनिक अधिकारियों ने बचाव उपाय किए उससे अब ये जिला सुर्खियों में आ गया. टीना डाबी ने हिंदुस्तान टाइम्स अखबार को दिए एक इंटरव्यू में बताया था कि कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलों के मद्देनजर हमने पहला कदम आइसोलेशन का उठाया था. साथ ही जिले को पूरी तरह आइसोलेट करने के लिए लोगों को भरोसे में भी लिया गया. टीना डाबी 2018 से भीलवाड़ा में सब डिविजन कलेक्टर के तौर तैनात थीं.

ये बोली थीं टीना डाबीउन्होंने बताया था कि 19 मार्च को पहला कोरोना पॉजिटिव केस भीलवाड़ा में आया और 20 मार्च को ही हमने वो कड़ी तलाश ली थी जो इसका एपिसेंटर बन सकती थी. हमने पाया कि एक पूरा प्राइवेट हॉस्पिटल ही इसकी चपेट में है.

टीना डाबी भीलवाड़ा के बृजेश बांगर मेमोरियल अस्पताल की चर्चा कर रही थीं. इसी अस्पताल के डॉक्टर और नर्स शुरुआती कोरोना पॉजिटिव लोगों में थे. इसके बाद प्रशासन ने तुरंत कंप्लीट शटडाउन का फैसला किया और भीलवाड़ा को सील कर दिया. टीना डाबी ने बताया था कि महज दो घंटे के भीतर शहर के डीएम राजेंद्र भट्ट ने कंप्लीट शटडाउन का फैसला ले लिया था. गौरतलब है कि राजेंद्र भट्ट को लेकर मीडिया में कई स्टोरी प्रकाशित हो चुकी हैं. उनकी त्वरित कार्रवाई की तारीफ हर तरफ हुई है.

शहरवासियों का भरोसा जीता
डाबी ने बताया था कि शटडाउन के फैसले के तुरंत बाद ही मैंने शहर भर में घूम कर काम-काज बंद कराने, लोगों को समझाने और जरूरत पड़ने पर डांटने का काम तेजी से शुरू कर दिया. उन्होंने लोगों को समझाया कि पैनिक होने की जरूरत नहीं है. महज एक या दो दिन के भीतर जिले भर के लोगों को ये समझाने में प्रशासन ने सफलता पाई.

Source link


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *