महंगा होने जा रहा आपके मोबाइल का रिचार्ज प्लान, अगले महीने से बढ़ सकता है टैरिफ

Spread the love

इन कंपनियों ने टैरिफ में 20 से 25 फीसदी तक की बढ़ोतरी की कवायद शुरू कर दी हैं.

Mobile Tariff Hike: करीब एक साल पहले टेलिकॉम कंपनियों (Telecom Companies) वॉइस एवं डेटा सर्विस की दरें बढ़ाने की तैयारी में है. इस बार बढ़ोतरी के बाद फोन बिल पर 20 से 25 फीसदी तक ज्यादा खर्च करना पड़ सकता है. प्राइवेट सेक्टर की दो प्रमुख कंपनियों टैरिफ बढ़ोतरी का इशारा कर चुकी हैं.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    November 23, 2020, 2:47 PM IST

नई दिल्ली. नये साल की शुरुआत में आपको फोन बिल पर 20 से 25 फीसदी तक ज्यादा खर्च करना पड़ सकता है. भारती एयरटेल (Bharti Airtel) और वोडाफोन आइडिया (Vi) जैसी प्राइवेट सेक्टर की कंपनियां अब अपनी सेवाओं के लिए एक बार फिर टैरिफ को रिवाइज कर सकती हैं. इसके पहले दिसंबर 2019 में टेलिकॉम कंपनियों (Telecom Companies) ने टैरिफ में बढ़ोतरी की थी. प्राइवेट सेक्टर की इन टेलिकॉम कंपनियों का मानना है कि वॉइस एवं डेटा सर्विसेज के लिए मौजूदा पर इंडस्ट्री में बने रहना मुश्किल है. यही कारण है कि इन कंपनियों के प्रतिनिधि भी टेलिकॉम रेगुलेटरी एवं डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (TRAI) के साथ बातचीत कर रहे हैं.

दिसंबर से बढ़ सकती हैं दरें
संभव है कि भारती एयरटेल और वोडाफोन-आ​इडिया इस साल के अंत तक टैरिफ में इजाफा करने का ऐलान कर दें. इन कंपनियों ने टैरिफ में 20 से 25 फीसदी तक की बढ़ोतरी की कवायद शुरू कर दी हैं. बीते कुछ समय में वोडाफोन-आइडिया के ग्राहकों की संख्या में बड़ी गिरावट देखने को मिली है.

यह भी पढ़ें: 5000 से कम दाम में खरीदें 5 बेस्ट वायरलेस ईयरफोन, जबरदस्त बैटरी बैकअप के साथ बेहतरीन साउंड

रविंदर टक्कर ने दिए थे संकेत
अब इस कंपनी ने ट्राई से गुहार लगाई है कि वॉइस एवं डेटा सर्विसेज के ​लिए दरों में इजाफा किया जाए ताकि टेलिकॉम सेक्टर में प्रतिस्पर्धा बना रहे. हाल ही में Vi के सीईओ रविंदर टक्कर (Ravinder Takkar) ने कहा था कि टेलिकॉम कंपनियों को वॉइस एवं डेटा सर्विसेज की टैरिफ में इजाफा करने से हिचकना नहीं चाहिए. उन्होंने कहा कि Vi आने वाले दिनों सबसे पहले टैरिफ बढ़ाने का ऐलान कर सकती है.

यह भी पढ़ें: iPhone में अपने एप्स के लिए गूगल ला रहा है नए विजेट्स

एयरटेल की भी तैयारी
बीते रविवार को ही भारती एयरटेल के चेयरमैन सुनील भारती मित्तल (Sunil Bharti Mittal) ने कहा कि अभी मोबाइल सर्विस की दरें तार्किक नहीं हैं. मौजूदा दरों पर  बाजार में बने रहना मुश्किल है, इसलिए दरों में बढ़ोतरी जरूरी है. उन्होंने कहा कि इस बारे में कोई निर्णय लेने से पहले बाजार की परिस्थितियों को देखा जाएगा. इसके पहले उन्होंने अगस्त महीने में कहा था कि 160 रुपये में एक महीने के लिए 16 जीबी डेटा देना त्रासदी है. उन्होंने कहा था कि टिकाऊ कारोबार के लिए प्रति ग्राहक औसत राजस्व को पहले 200 रुपये और धीरे-धीरे बढ़कर 300 रुपये तक पहुंचना चाहिए.

Source link


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *