सरकारी क्लर्क के बेटे ने वर्ल्ड कप में ली हैट्रिक, सचिन को आउट कर तोड़ा था करोड़ों भारतीयों का दिल

Spread the love

सकलैन मुश्ताक ने 1999 वर्ल्ड कप में जिम्बाब्वे के खिलाफ हैट्रिक ली थी.

11 June On This Day : आज ही के दिन पाकिस्तानी क्रिकेटर ने 1999 के वर्ल्ड कप में हैट्रिक ली थी. सकलैन ने अपने टेस्ट करियर में 208 और वनडे में कुल 288 विकेट झटके. इतना ही नहीं, उन्होंने टेस्ट में एक शतक और 2 अर्धशतक भी लगाए.

नई दिल्ली. पाकिस्तान के दिग्गज गेंदबाजों में शुमार सकलैन मुश्ताक (Saqlain Mushtaq) और उनके फैंस के लिए 11 जून का दिन बेहद खास है. इसी दिन सकलैन ने वर्ल्ड कप में हैट्रिक ली थी, जब पाकिस्तान ने जिम्बाब्वे को 148 रन के बड़े अंतर से मात दी थी. वह विश्व कप में हैट्रिक लेने वाले दूसरे गेंदबाज बने थे. वनडे में दो बार हैट्रिक लेने वाले वसीम अकरम के बाद वह दूसरे खिलाड़ी बने.

सकलैन ने यह उपलब्धि साल 1999 में हासिल की थी. उन्होंने जिम्बाब्वे की पारी के अंतिम तीनों खिलाड़ियों को पैवेलियन की राह दिखाई और मैच जीतने में भी भूमिका अदा की. हालांकि मैन ऑफ द मैच सईद अनवर रहे जिन्होंने 103 रन की शतकीय पारी खेली. उनका नाम भारत के महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर से भी जोड़ा जाता है जब चेन्नई में 1999 में सकलैन ने उन्हें पैवेलियन भेज दिया था. बहुत कम लोग जानते हैं कि सकलैन के पिता सरकारी क्लर्क के तौर पर नौकरी करते थे.

ऐसा रहा था पाक-जिम्बाब्वे का मैच

1999 के वर्ल्ड कप में द ओवल मैदान पर पाकिस्तान और जिम्बाब्वे आमने-सामने थे. पाकिस्तान ने ओपनर सईद अनवर (103) की शानदार शतकीय पारी की बदौलत 50 ओवर में 9 विकेट पर 271 रन बनाए. हीथ स्ट्रीक और हेनरी ओलोंगा ने 2-2 विकेट झटके. जिम्बाब्वे टीम लक्ष्य का पीछा करते हुए 40.3 ओवर में 123 रन पर ऑलआउट हो गई. सकलैन मुश्ताक ने इस मैच के 41वें ओवर की पहली गेंद पर ओलोंगा, दूसरी पर एडम हकल और पोमी म्बांग्वा को तीसरी गेंद पर पैवेलियन भेजा. इसके साथ ही जिम्बाब्वे की पारी सिमट गई.इसे भी पढ़ें, युजवेंद्र चहल के घर आई खुशखबरी, सोशल मीडिया पर फैंस के साथ की शेयर

सकलैन ने लिए 496 अंतरराष्ट्रीय विकेट

सकलैन ने अपने करियर में 49 टेस्ट और 169 वनडे इंटरनैशनल मैच खेले. उनके नाम टेस्ट में 208 और वनडे में कुल 288 विकेट दर्ज हैं. उन्होंने अपने करियर में 194 फर्स्ट क्लास मैचों में कुल 833 विकेट लिए. इतना ही नहीं, उन्होंने टेस्ट में एक शतक और 2 अर्धशतक भी लगाए.

‘आखिरी सांस तक फख्र रहेगा’

सकलैन ने एक बार इंटरव्यू में कहा था कि सचिन से नाम जुड़ना उनके लिए फख्र की बात है. सकलैन ने कहा था, ‘ऊपर वाला उस दिन मेरी तरफ था। मैंने नहीं सोचा था कि मैं मास्टर ब्लास्टर को आउट करूंगा लेकिन जब ईश्वर प्लान बनाए तो उसे बदल नहीं सकते. आखिरी सांस तक मैं इस बात पर फख्र महसूस करूंगा कि मैंने सचिन को उस दिन आउट किया था, मेरा नाम उनके नाम के साथ जुड़ा रहेगा.’





Source link


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *