सावन में देवघर नहीं आ पाएंगे श्रद्धालु, बिहार-झारखंड की पुलिस लगाएगी रोक

Spread the love

रिपोर्ट- मनीष दुबे

देवघर. बाबानगरी देवघर में इस बार भी श्रावणी मेला (Shravani Mela) का आयोजन नहीं होगा. ऐसे संभावित श्रद्धालुओं को देवघर आने से रोकने के लिए तैयारी चल रही है. इस सिलसिले में बिहार और झारखंड पुलिस की संयुक्त बैठक देवघर पुलिस लाइन में हुई. जिसमें संभावित श्रद्धालुओं को देवघर सीमा पर रोकने को लेकर रणनीति बनाई गई.

देवघर के जसीडीह स्थित डावर ग्राम पुलिस लाइन में सीमावर्ती क्षेत्रों के थानों के प्रभारी, देवघर डीएसपी और बिहार के सीमावर्ती जिलों के एसडीपीओ ने बैठक की. बैठक में मुख्य रूप से संभावित श्रद्धालुओं के जत्थे को रोकने पर रणनीति बनाई गई. देवघर के एसडीपीओ पवन कुमार ने जानकारी देते हुए कहा कि बिहार और झारखंड की पुलिस संयुक्त रूप से इस दिशा में काम करेगी. रणनीति बनाने के लिए आज विशेष बैठक की गई.

एसडीपीओ पवन कुमार ने कहा कि मुख्य रूप से बिहार में बिहार पुलिस के द्वारा श्रद्धालुओं को देवघर आने से रोका जाएगा. उन्हें जागरूक किया जाएगा. इसके अलावा जगह-जगह बैरिकेडिंग की जाएगी.  और पुलिसबलों की तैनाती की जाएगी. इसके अलावा श्रद्धालुओं से भी आग्रह किया गया है कि वह सावन के महीने में देवघर ना आए और सरकार के कोरोना गाइडलाइन का पालन करें.

बता दें कि गत शनिवार से बांग्ला सावन शुरू हो गया है. देवघर के विश्वप्रसिद्ध बाबा मंदिर में बांग्ला सावन शुरू होते ही श्रद्धालुओं की भीड़ लगनी शुरू हो जाती थी. लेकिन इस साल कोरोना की तीसरी संभावित लहर से बचाव के लिये आम श्रद्धालुओं के लिए बाबा मंदिर नहीं खोला गया है.

डीसी मंजूनाथ भजंत्री ने कहा है कि हाल फिलहाल के दिनों में देवघर में कोरोना के मामलों में बढ़ोत्तरी देखी जा रही है. ऐसे में बाहर से आने वाले यात्रियों के रोका जाएगा. पांच जगहों पर चेक पोस्ट बनाया जाएगा. इसके तहत दर्दमारा बॉर्डर, अंधरीगादर बॉर्डर, दुम्मा बॉर्डर, जमुई बॉर्डर और जयपुर मोड़ के पास चेक पोस्ट लगाकर बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को देवघर आने से रोका जा रहा है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *