India vs England: विराट कोहली का फॉर्म टीम इंडिया के लिए चिंता का विषय, पिछली 31 पारियों से नहीं लगा पाए शतक– News18 Hindi

Spread the love

नई दिल्ली. विराट कोहली (Virat Kohli) इस पीढ़ी के महानतम बल्लेबाजों में से एक हैं. वनडे और टी20 के अलावा कोहली टेस्ट क्रिकेट में भी टॉप-3 बल्लेबाजों में शुमार हैं. घरेलू मैदानों पर उनका औसत सबसे ज्यादा है. कोहली के बाद चेतेश्वर पुजारा का नंबर आता है. हालांकि विराट कोहली पिछले 14 महीनों से बड़ी पारी खेलने में असफल रहे हैं जो उनकी पहचान है. चेन्नई टेस्ट की पहली पारी में 69 मिनट क्रीज पर टिकने के बाद भी वह सहज नहीं दिखे और 48 गेंदों में 11 रन बनाकर स्पिनर की गेंद पर आउट हो गए. पिछले तीन सालों में ऐसा सिर्फ दूसरी बार हुआ जब भारतीय धरती पर उनका विकेट किसी स्पिनर ने लिया हो.

कोहली ने जोफ्रा आर्चर की गति या डॉम बेस की फिरकी के खिलाफ सहजता नहीं दिखाई. उन्हें आर्चर की शॉर्ट बॉल और फुल लेंथ डिलीवरी के खिलाफ परेशानी हुई. इसके बाद इंग्लैंड के 23 वर्षीय युवा स्पिनर डॉम बेस ने भी कोहली को छकाया. बेस की गेंद पर कोहली ने शॉर्ट लेग पर आसान कैच दिया. कोहली पिछली सात टेस्ट पारियों में 18.14 की औसत और एक अर्धशतक की बदौलत 127 रन बनाने में सफल रहे हैं.

साल 2020 में कोहली का बल्ला उनसे रूठा रहा. उन्होंने 23 मैचों की 25 पारियों में 35.54 की औसत से तीन प्रारूपों में 853 रन बनाए हैं. कोहली ने इस दौरान सात अर्धशतक जड़ा. पिछले साल उनके बल्ले से एक भी शतक नहीं निकला. पिछले साल 14 बार 30 रन से पहले आउट हुए है. यह शीर्ष क्रम में खेलने वाले कोहली के लिए बेहद खराब आंकड़ा है. कोहली ने पिछली 31 पारियों में अंतरराष्ट्रीय शतक नहीं बनाया है. यह उनके करियर में ऐसा पहली बार हुआ है. पिछली बार बांग्लादेश में एशिया कप (28 फरवरी, 2014) और वेस्टइंडीज (11 अक्टूबर, 2014) के खिलाफ वनडे घरेलू सीरीज के बीच 25 पारियों में उनके बल्ले से शतक नहीं निकला था. उनका आखिरी अंतराष्ट्रीय शतक नवंबर 2019 में ईडन गार्डन में डे-नाइट टेस्ट में बांग्लादेश के खिलाफ आया था.

यह भी पढ़ें:

IPL 2021 Auction: अर्जुन तेंदुलकर पर दांव लगा सकती हैं ये 3 टीमें, पूरा हो सकता है आईपीएल खेलने का सपना

WI vs BAN: मौत को मात दे चुके हैं काइल मायर्स, अब दोहरा शतक ठोक जिताया टेस्ट मैच

क्रिकेट जगत के सभी महान खिलाड़ी कभी ना कभी अपने करियर ऐसे स्थितियों से गुजर चुके हैं जब उनका बल्ला खामोश रहा हो. पिछले 12 महीने से कोहली भी मैदान पर संघर्ष करते हुए नजर आ रहे हैं. हालांकि साल 2014 से कोहली ने क्रिकेट तीनों फार्मेट में जिस तरह गेंदबाजों पर दबदबा बनाया है, उसे देखते हुए कहा जा सकता है कि वह जल्द ही बड़ी पारी खेलते हुए नजर आएंगे.

Source link


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *