IPL 2021: ईशान किशन- 47 दिन में टीम इंडिया के स्टार बनने और मुंबई इंडियंस से बाहर होने की कहानी

Spread the love

IPL 2021: ईशान किशन मौजूदा सीजन में एक भी अर्धशतक नहीं लगा सके.

मुंबई इंडियंस (MI) ने आईपीएल 2021 (IPL 2021) के अपने छठे मुकाबले (MI vs RR) में ईशान किशन (Ishan Kishan) को प्लेइंग-11 से बाहर कर दिया. टीम शुरुआती 5 में से सिर्फ 2 में जीत हासिल कर सकी है.

नई दिल्ली. पांच बार की चैंपियन मुंबई इंडियंस (MI) आईपीएल 2021 (IPL 2021) के मौजूदा सीजन में अच्छी शुरुआत नहीं कर सकी है. टीम ने शुरुआती 5 मैच में से सिर्फ 2 में जीत हासिल की है. 3 में हार मिली. टीम ने अपने छठे मुकाबले (MI vs RR) के लिए टीम में अहम बदलाव किया. विकेटकीपर बल्लेबाज ईशान किशन (Ishan Kishan) को प्लेइंग-11 में जगह नहीं मिली. उनकी जगह नाथन कुल्टर नाइल को मौका दिया गया. ईशान किशन पिछले सीजन में टीम की ओर से सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज थे. उन्होंने 14 मैच में 4 अर्धशतक के साथ 516 रन बनाए थे. औसत 57 का और स्ट्राइक रेट 146 का रहा था. लेकिन मौजूदा सीजन के शुरुआती 5 मैच में ईशान किशन कमाल नहीं कर सके. इस दौरान वे 15 की औसत से सिर्फ 73 रन बना सके. 28 रन उनका सबसे बड़ा स्कोर रहा. इतना ही नहीं वे इस दाैरान सिर्फ 3 चौके और 2 छक्के लगा सके. टी20 डेब्यू में खेली थी अर्धशतकीय पारी झारखंड ने घरेलू क्रिकेट खेलने वाले ईशान किशन ने 14 मार्च को इंग्लैंड के खिलाफ इंटरनेशनल डेब्यू किया था. इस टी20 मैच में उन्होंने 32 गेंद पर आक्रामक 56 रन बनाए थे. 5 चौके और 4 छक्के लगाए थे. इसके बाद उन्हें टी20 का बड़ा स्टार माना जा रहा था. वे मुंबई इंडियंस की ओर से आईपीएल में लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे थे. लेकिन फटाफट क्रिकेट की यही सबसे बड़ी कमी है. यदि आपने फॉर्म खोया तो टीम में वापसी मुश्किल हो जाती है. इस साल देश में टी20 वर्ल्ड कप भी होना है. ऐसे में आईपीएल का प्रदर्शन काफी अहम रहने वाला है.यह भी पढ़ें: IPL 2021: राजस्थान रॉयल्स ने कोविड रिलीफ फंड में दान किए 7.5 करोड़ रुपए, ऐसा करने वाली पहली फ्रेंचाइजी मुंबई का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है कोरोना के कारण इस सीजन में कोई भी टीम घरेलू मैदान पर मुकाबला नहीं खेल रही है. इसका सबसे ज्यादा नुकसान मुंबई इंडियंस को ही उठाना पड़ रहा है. वानखेड़े की पिच बल्लेबाजों के लिए अनुकूल मानी जाती थी, लेकिन टीम को शुरुआती मैच चेन्नई में खेलने पड़े. चेन्नई की पिच धीमी मानी जाती है और यहां रन बनाना आसान नहीं होता. मुंबई के बल्लेबाज इस दौरान रन बनाने के लिए संघर्ष करते दिखे.





Source link


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *