IPL 2021: बायो-बबल में कोविड-19 की इंट्री पर मच गई थी अफरातफरी, क्रिस मॉरिस का खुलासा

Spread the love

क्रिस मॉरिस आईपीएल 2021 की नीलामी में सबसे महंगे बिके थे (फोटो-पीटीआई)

क्रिस मॉरिस ने बताया कि इंग्लैंड के खिलाड़ी विशेषरूप से घबराये हुए थे क्योंकि उन्हें इंग्लैंड में होटलों में आइसोलेट रहने की जरूरत थी और जाहिर था कि उनके पास कमरे नहीं थे.

नई दिल्ली. दक्षिण अफ्रीका और राजस्थान रॉयल्स के आलराउंडर क्रिस मॉरिस ने कहा कि इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के जैव सुरक्षित वातावरण (बायो बबल) में कोविड-19 के मामले पाये जाने के बाद अफरातफरी का माहौल बन गया था और वह स्वदेश लौटकर राहत महसूस कर रहे हैं. आईपीएल को स्थगित किये जाने के बाद मौरिस और 10 अन्य दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी स्वदेश लौट गये हैं. आईपीएल में कोविड-19 के छह मामले पाये गये थे जिसमें चार खिलाड़ी और दो कोच शामिल थे. अभी अपने घर में 10 दिन के अनिवार्य पृथकवास पर रह रहे मॉरिस ने आईओएल.सीओ.जेडए से कहा, ‘‘निश्चित तौर पर मैं राहत महसूस कर रहा हूं.’’ मॉरिस ने कहा कि उन्हें कोलकाता नाइट राइडर्स के दो खिलाड़ियों वरुण चक्रवर्ती और संदीप वारियर के पॉजिटिव पाये जाने के बारे में रविवार की रात को पता चला. उन्होंने कहा, ‘‘जैसा ही हमें इस बारे में पता चला कि बायो बबल के अंदर खिलाड़ी पॉजिटिव पाये गये हैं तो सभी ने सवाल करने शुरू कर दिये. हम सभी के अंदर निश्चित तौर पर खतरे की घंटी बजनी शुरू हो गयी थी.’’ मौरिस ने कहा, ‘‘सोमवार तक जब उन्होंने वह मैच (कोलकाता और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर) स्थगित किया तब तक हमें पता चल गया था कि टूर्नामेंट जारी रखने के लिये दबाव बना हुआ है. ’’ सनराइजर्स हैदराबाद के विकेटकीपर बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा और दिल्ली कैपिटल्स के अमित मिश्रा के मंगलवार को पॉजिटिव आने के बाद इस टी20 लीग को स्थगित कर दिया गया था. चेन्नई सुपरकिंग्स के गेंदबाजी कोच एल बालाजी और बल्लेबाजी कोच माइकल हसी भी वायरस से संक्रमित पाये गये थे. यह भी पढ़ें:वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के लिए आज हो सकता है टीम इंडिया का चयन, जानें किन खिलाड़ियों को मिल सकता है मौका एबी डिविलियर्स अगले महीने करेंगे इंटरनेशनल क्रिकेट में वापसी, ग्रीम स्मिथ ने कही बड़ी बात! मॉरिस ने कहा, ‘‘मैं अपनी टीम के डॉक्टर से बात कर रहा था. कुमार संगकारा ने तब इशारा किया और तब हमें पता चला कि अब टूर्नामेंट आगे नहीं बढ़ पाएगा. इसके बाद का माहौल अफरातफरी वाला था. इंग्लैंड के खिलाड़ी विशेषरूप से घबराये हुए थे क्योंकि उन्हें इंग्लैंड में होटलों में अलग थलग रहने की जरूरत थी और जाहिर था कि उनके पास कमरे नहीं थे. ’’
ऑस्ट्रेलियाई एंड्रयू टाइ की जगह चुने गये गेराल्ड कोएट्जी पिछले सप्ताह ही भारत पहुंचे थे और मॉरिस ने कहा कि वह इस युवा तेज गेंदबाज को धीरज बंधा रहे थे क्योंकि वह अधिक घबराया हुआ था. उन्होंने कहा, ‘‘मैं जानता था कि गेराल्ड अधिक घबराया हुआ है. मेरे कहने का मतलब है कि वह अभी 20 साल का है और उसके सामने यह सब कुछ हो गया. मैंने उसे धीरज बंधाने की कोशिश की. ’’





Source link


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *